रिफ्रेश रेट क्या होता हैं | मोबाइल में रिफ्रेश रेट क्या होता हैं?

दोस्तों बीते 1-2 सालों में हमारे फोन की टेक्नोलॉजी कई हद तक आगे निकल गई हैं हालांकि यह अभी भी टेक्नोलॉजी की सबसे हाई स्टेट नहीं हैं आजकल लोग फोन में रिफ्रेश रेट की बाते भीं कर रहे हैं अक्सर फोन में हम रैम या उसकी स्टोरेज और प्रोसेसर क्या होता हैं यह ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन अब लोग फोन में रिफ्रेश रेट भी देखने लगे हैं। इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे की रिफ्रेश रेट क्या होता हैं | मोबाइल में रिफ्रेश रेट क्या होता हैं?

जब से iPhone 13 लॉन्च हुआ हैं यह एक शब्द लोगों को ज्यादा सुनने को मिल रहा हैं हालंकि कई लोग अभी तक इसका सही मतलब नहीं समझ पाए हैं ऐसा नहीं हैं की सिर्फ iPhone की वजह से यह शब्द पॉपुलर हुआ वल्कि एंड्रॉयड कई सालों से 30Hz से 60Hz refresh rate इस्तेमाल करते आ रहा हैं लेकिन इस पर लोगों ने कभी उतना ध्यान नहीं दिया।

वैसे iPhone 13 में अब आपको 120Hz का रिफ्रेश रेट देखने को मिलेगा जिसकी वजह से
iPhone में गेम खेलने वाले तथा heavy task करने वाले लोग सही बता रहा हैं क्योंकि गेमिंग के दौरान अगर display जल्दी रिस्पॉन्स नहीं
करेगी तो फिर वो मजा नहीं आता हैं।

हालंकि लोगों के फोन में अक्सर 30Hz ही ज्यादा देखने को मिलता हैं और हम इतने में ही खुश हैं
लेकिन कई बार 30Hz रिफ्रेश रेट से काम नहीं चलता, रिफ्रेश रेट का सरल मतलब ये हैं की एक
सेकंड में कितनी बार आपके फोन की display रिफ्रेश होती हैं तथा इस रिफ्रेश रेट को Hz में
कैलकुलेट किया जाता हैं।

चलिए अब रिफ्रेश रेट क्या होता हैं | मोबाइल में रिफ्रेश रेट क्या होता हैं? इसके बारे में थोड़ा और
आसानी से समझने की कोशिश करते हैं।

रिफ्रेश रेट क्या होता हैं?

Refresh Rate का सीधा मतलब यह हैं की एक सेकंड में फोन की display कितनी बार अपडेट या
रिफ्रेश होती हैं। एक सेकंड में डिस्प्ले जितनी ज्यादा रिफ्रेश होगी फोन उतना ही स्मूथ चलेगा। किसी फोन में 30Hz का रिफ्रेश
होता हैं इसका मतलब की एक सेकंड में उस फोन का डिस्प्ले सिर्फ 30 बार रिफ्रेश होगा।

Refresh Rate kya hai in HIndi

अगर आप फोन लेते वक्त ये सब चीजें इतनी ज्यादा नहीं देखते तो आपको रिफ्रेश रेट और फ्रेम रेट का
अंतर दिखेगा ही नहीं। हाई रिफ्रेश रेट होने का सीधा मतलब यह हैं की फोन के ग्राफिक्स बहुत स्मूथ
दिखेंगे तथा गेमिंग करने से लिए अच्छा रहेगा।

गेम डेवलपर हाई फ्रेम रेट एड करते हैं ताकि गेम में इमेज बहुत ही clear तथा स्मूथ दिखें आपको यह
अंतर सिर्फ तभी समझ आएगा जब आप पास हाई रिफ्रेश रेट वाला फोन होगा। जब आप अपने फोन
में कुछ स्क्रॉल करते हैं या कोई वीडियो रेंडर करते हैं तब आपको रिफ्रेश रेट का अंतर साफ दिख जायेगा।

वैसे तो अब जितने फोन भी आते हैं लगभग सभी 60Hz रिफ्रेश रेट के साथ आते हैं जिसका मतलब
हैं की एक सेकंड में डिस्प्ले 60 बार रिफ्रेश होगी। आज के समय में मार्केट में 90Hz, 120Hz यहां
तक कि 144Hz रिफ्रेश रेट के फोन मौजूद हैं।

Video Resolution matters

हालांकि सिर्फ रिफ्रेश रेट हाई या मीडियम होने से यह मतलब नहीं है की फोन में ग्राफिक्स सही दिखेंगे क्योंकि वीडियो resolution में भी 720p को HD कहां जाता हैं लेकिन इसे सबसे हाई resolution नहीं माना जाता,

1080p को Full HD कहां जाता हैं और आज के समय में यह भी सबसे हाई resolution नहीं हैं 1080p सिर्फ minimum requirement हैं किसी भी फोन में अगर आपको इमेजेस और वीडियो clear देखना हैं तो।

कोई भी चीज अगर बहुत अच्छी हैं तो उसके साथ कुछ न कुछ नुकसान भीं जरूर होता हैं यह नुकसान
और भी बढ़ जाता हैं अगर बात टेक्नोलॉजी की हो।

कितनी ज्यादा रिफ्रेश रेट फोन का होता हैं वह फोन उतना ही ज्यादा बैटरी consume करता हैं इसी
प्रोब्लम को दूर करने के लिए फोन कंपनियों को खासी मशक्कत करनी पड़ती हैं इसी वजह से फोन
में sufficient 60-90Hz का रिफ्रेश रेट होता हैं।

Smart Refresh Rate?

जब से iPhone 13 लॉन्च हुआ हैं जब से लोगों ने रैम, प्रोसेसर और स्टोरेज के साथ साथ रिफ्रेश रेट भी देखना शुरू कर दिया हैं। अगर फोन में ज्यादा रिफ्रेश रेट होगा तो फोन बैटरी भी ज्यादा कंज्यूम करेगा इसका सीधा असर फोन इस्तेमाल करने वाले यूजर को पड़ेगा।

इसी वजह से अब फोन में जो हायर रिफ्रेश रेट होता हैं वह स्मार्ट हो चुका हैं कहने का मतलब ये हैं की अगर आप फोन में कोई सिंपल task कर रहे हैं तो automatically display का रिफ्रेश रेट कम हो जायेगा

और अगर आप तुरंत गेम खेलना शुरू कर देते हैं तो फोन का स्मार्ट प्रोसेसर डिस्प्ले के रिफ्रेश रेट को
हाई कर देगा जिसकी वजह से गेम स्मूथ चलेगा, इससे आपके फोन की बैटरी कम कंज्यूम होगी

क्योंकि जब heavy task होगा तो अपने आप रिफ्रेश रेट बढ़ जाएगा और नॉर्मल काम करेंगे तो
रिफ्रेश रेट कम हो जायेगा इससे बैटरी का consumption कम होगा और हाई रिफ्रेश रेट से
फोन की बैटरी की लाइफ भी कम नहीं होगी।

Refresh Rate Vs Touch sampling rate

किसी भी फोन में उसका रिफ्रेश रेट और टच सैंपलिंग रेट काफी महत्वपूर्ण रोल निभाते हैं अगर आप सिर्फ हायर रिफ्रेश रेट को देखकर ही फोन लेने का सोच रहे हैं तो टच कितनी जल्दी रिस्पॉन्स करती हैं यह भी देखना उतना ही जरूरी होता हैं।

अगर टच रिस्पॉन्स सही नहीं होगा तो फोन बहुत जल्दी रिस्पॉन्स नहीं करेगा और अगर आप कोई गेम खेल रहे हैं तथा आप सामने वाले को मारने का इरादा लेकर आगे बढ़ते हो और kill करने के लिए गन लोड करते हैं और फायर करते हैं लेकिन आपका फोन ने जल्दी रिस्पॉन्स नहीं किया और उतने देर में सामने वाले ने आपको मार दिया।

इसी वजह से आपको टच रिस्पॉन्स भी जरूर देखना चाहिए क्योंकि फोन में सिर्फ एक चीज अच्छी होने से जरूरी नहीं हैं की फोन better होगा या आपके पैसे के लिए worth होगा।

हालांकि अब ऐसे फोन भी आते हैं जो खासकर गेम को देखकर ही बनाए जाते हैं जिनमे अक्सर
120Hz रिफ्रेश रेट तथा 240Hz touch sampling rate देखने को मिलता हैं जो गेम खेलने के लिए बहुत बेहतर माना जाता हैं।

इसलिए अब आपको रैम, स्टोरेज, कैमरे, प्रोसेसर के साथ साथ रिफ्रेश रेट तथा टच रिस्पॉन्स या टच
सैंपलिंग रेट भी जरूर देख लेना चाहिए कई बार कंपनियां इस तरह फोन का प्रचार करती हैं की हम
समझ नहीं पाते और घटिया फोन को भी इस तरह से दिखाया जाता हैं की हम उसे लेने के बाद
पछताते हैं।

निष्कर्ष?

दोस्तों मुझे पूरी उम्मीद हैं कि अब आपको बहुत अच्छे से समझ आ गया होगा की रिफ्रेश रेट क्या
होता हैं | मोबाइल में रिफ्रेश रेट क्या होता हैं?
वैसे तो इसके बारे में आज भी लोग ज्यादा नहीं
जानते जिसकी वजह से वो गलत फोन ले लेते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं क्योंकि मैंने इस पोस्ट में
आपको रिफ्रेश रेट क्या होता हैं | मोबाइल में रिफ्रेश रेट क्या होता हैं? बहुत अच्छे से समझा दिया हैं।

फोन कंपनियां जब भी कोई नया फोन लॉन्च करती हैं तो उसमें वो करोड़ों फोन लॉन्च करती हैं और
अक्सर हमे फोन का सिर्फ पॉजिटिव साइड ही ज्यादा दिखाया जाता हैं जिसकी वजह से हम उसकी नेगेटिव साइड देख नहीं
पाते और फोन खरीद लेते हैं और बाद में समझ आता हैं।

इसलिए आज हमने आपको यह समझाया की रिफ्रेश रेट क्या होता हैं | मोबाइल में रिफ्रेश रेट क्या
होता हैं? मुझे उम्मीद हैं आपको आज के बार से रिफ्रेश रेट क्या होता हैं इसमें कभी कोई समस्या
नहीं आयेगी, अंत तक पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

यह आर्टिकल भी पढ़िए-

वॉकी टॉकी क्या होता है ? What is Walkie Talkie in Hindi ?

Hadoop क्या है ? Hadoop के फायदे क्या है?

Cloud Computing क्या होती है ? और कैसे काम करती है ?

Hello friends, I am "Rahul" Author & Founder of TechySeizer.in. If I Talking about my education I am in BSC 3rd year. I love knowing things related to technology and teaching others. Just keep supporting our content, we will keep giving you new information :)

2 thoughts on “रिफ्रेश रेट क्या होता हैं | मोबाइल में रिफ्रेश रेट क्या होता हैं?”

Leave a Comment