Encryption क्या होता है ? और कैसे काम करता है।

दोस्तों क्या आपने कभी ये सोचा की आप जो मेसेज भेजते है अगर उसको बिच में कोई पढ़ ले तो
क्या होगा और क्या हो अगर जो आपने मेसेज भेजा है उसके बदले कोई और मेसेज पहुच जाये
मतलब की बिच में कोई उस मेसेज को बदल दे. सोचिये अगर ऐसा होगा तो प्राइवेसी नाम की चीज
नही बचेगी और कोई भी किसी की ज़िन्दगी में आराम से झांक सकता है. बस इसको ही रोकने के
लिए बनाया गया था Encryption.

आपने Computer की दुनिया में Encryption के बारे में तो जरूर सुना होगा चाहे वह पके डेटा को
Secure बनाने के लिए हो या फिर आपके Message को Secure बनाने के लिए हो या फिर आप जो भी
Save करते हो Google Drive में उसके लिए Encryption आज हर जगह काम में आता है। तो आखिर
Encryption क्या होता है और कैसे काम करता है ये सब मैं आपको इस पोस्ट में बताने वाला हूं। मुझे उम्मीद है
आपको पोस्ट पसंद आएगी।

Also Read :- Cloud Computing क्या होती है ? और कैसे काम करती है ?

Encryption क्या है?

दोस्तों ऐसा नहीं है कि Encryption आज का है इसे तो हम कई हजारों सालों से use करते आ रहे है
Encryption का मतलब सिर्फ इतना है कि आप जो भी डेटा या मेसेज Save करते है या फिर आप
किसी को मैसेज भेजते है तो उसको वही पढ़ पाए जिसे आपके भेजा है। उसके आलवा उसको और कोई
तीसरा व्यक्ति बीच में न पढ़ पाए। और आप जिसे दिखाना चाहते है सिर्फ वही देखे।

 Encryption-क्या-है

 

अगर हम बात करे नॉर्मल Encryption की तो जैसे कि A,B,C……Z तक है तो अगर मैने मान लिया
कि A को लिखूंगा B और B को लिखूंगा C और C को लिखूंगा D मतलब कि एक शब्द आगे लिखूंगा तो
अगर आपको लिखना है Rahul तो मैं क्या करूंगा कि हर Words से एक Words आगे का लिख दूंगा
तो Rahul का बन जाएगा sbivm तो अगर आप इसे किसी को भेजते हो तो कोई और इसको नहीं पढ़
सकता कोई भी बीच में इसे Decode नहीं कर सकता क्युकी सिर्फ आपको पता है कि मैने एक Words
आगे लिखा है, आप जिसे भेज रहे है सिर्फ वही Decode कर सकता है। अब आप जिसको भेज रहे है अगर
इसके पास KEY होगी तो वह उसको पढ़ पाएगा और इसके आलावा कोई भी इसे नहीं पढ़ सकता।

History of Encryption ?

ये तो बात हो है नॉर्मल Encryption की लेकिन ऐसा नहीं है कि हमने Encryption को कुछ ही सालो
में Use करना Start किया है ऐसा बिल्कुल नहीं है World War के समय नहीं इस Techniques
का use होता था क्युकी वह नहीं चाहते कि उनका मेसेज कोई दुश्मन पढ़ ले और समय के साथ साथ
Encryption में भी बदलाव आते गए और आज बहुत से प्रकार के Encryption Use में लिए जाते है

लेकिन अब Computer की दुनिया में Encryption अलग है लेकिन Concept पूरा Same है।
दोस्तों अभी के लिए मैं बात करता हूं Public Key Encryption के बारे में क्युकी आपके जिसमे भी मेसेज
हो गए या फिर Google Drive वगेरह या फिर Whatsapp ये सब Based होते है
Public Key Encryption पर।

 

Public Encryption Key क्या होती है ?

दोस्तों मान लीजिए मैं एक User हूं और मेरे सामने दूसरा User खड़ा है तो हम दोनों के पास 2 तरह से Key
होती है एक तो Private Key जो सिर्फ मेरे पास रहती है और दूसरी Public Key जो सभी के पास रहती है
वैसा ही उस 2nd User के पास है एक Public और एक Private Key।

तो Key का मतलब ये है कि जो उस मेसेज को Decode करने का Formula है वह उस Key में लिखा
होता है और बिना Key के कोई भी मेसेज को Decode नहीं कर सकता। Key की मदद से आप Original
Message को Recover कर सकते हो।

अगर आपने किसी मेसेज को या फिर किसी फाइल को Public key से Lock लगा दिया है तो वह सिर्फ और
सिर्फ Private Key से खुलता है। और अगर आपने किसी message को Private Key से Lock लगा
दिया है तो वह सिर्फ और सिर्फ Public Key से ही ओपन होता है और किसी भी Key से ओपन नहीं होगा।
पहले ये फंडा Clear कर लीजिए।

 

Encryption कैसे काम करती है ?

अब मान लीजिए वह जो दूसरा User मेरे सामने खड़ा था मुझे उसको कुछ फाइल भेजना है और उस मेसेज को
जिसमे “HELLO” लिखा था उसको उसी User की Public Key से Lock कर दूंगा और वह मैने मैसेज
भेज दिया उस User के पास तो वह व्यक्ति सिर्फ अपनी Private Key से ही उस मैसेज को अनलॉक कर
सकता है कर रास्ते में कोई भी उसे Unlock नहीं कर सकता कहने का मतलब ये है कि कोई भी बीच में
उसे पढ़ नहीं सकता।

अगर हम इसको और ज्यादा Secure करना चाहता हूं और ये जानना चाहता हूं कि वह मेसेज मैने ही भेजा है
क्यूंकि Public key तो सभी के पास है और कोई भी मेसेज भेज सकता है। तो मैं क्या करूंगा उस मेसेज को
जिस User को भेज रहा हूं पहले तो उसकी Public key से Lock करूंगा फिर उसके बाद उस मेसेज को
अपनी Private Key से लॉक करूंगा और मेसेज भेज दूंगा अब वह जाएगा उस यूजर के पास और वह देखेगा
की अरे ये तो Private Key से Lock है तो वह सबसे पहले मेरी पब्लिक Key से उसको अनलॉक करेगा
फिर उसके बाद अपनी Private Key से उस मेसेज को Decode करेगा। दोस्तों Concept थोड़ा सा
कंफ्यूज करने वाला है लेकिन ये ऐसे ही काम करता है।

अब उसको थोड़ा Practicle Example से समझने कि कोशिश करते है।

 

Practicle Example of Encryption

मान लीजिए रोहित और मोहित दो दोस्त है और रोहित को मोहित को एक EMAIL भेजना है तो पहले मोहित
सामने वाले को अपनी Public key बताएगा मतलब रोहित को बताएगा तो रोहित क्या करेगा की मोहित कि
पब्लिक key से उस EMAIL को लॉक कर देगा ताकि उसको कोई और ना पढ़ सके। अब Email मोहित
को मिल चुका है लेकिन वो तो लॉक है तो अब मोहित अपनी Private Key से उसको अनलॉक करेगा और
Email को देख लेगा कि इसमें क्या लिखा है।
दोस्तों ये Concept थोडा सा Confuse करने वाला है लेकिन अगर आप इस पोस्ट को 2-3 पढ़ लेते है तो
आपको अच्छे से समझ में आ जायेगा. ये सारी प्रोसेस तब काम आती है जब हम डेटा का ट्रांसमिशन करते है.

NOTE :- ये सारी प्रोसेस आपको कभी नही करनी होती है ये सब प्रोसेस अपने आप हो जाती है जब आप
किसी को मेसेज करते है तो…

 

Conclusion :-

Encryption का सबसे अच्छा उदहारण चाहिए तो वो है Whatsapp क्यूंकि हम
रोज इसको इस्तेमाल करते है और इससे मेसेज करना सबसे सुरक्षित माना जाता है और आपको इसके Encryption
के बारे में जरुर जानना चाहिए.

अगर आपने ये टॉपिक पहली बार पढ़ा है तो आप काफी कंफ्यूज हो गये होंगे इसलिए आप इसको अच्छे से
पढ़ लीजिये. मुझे पूरी उम्मीद है की अब आपको समझ आ गया होगा की Encryption क्या होता है
और कैसे काम करता है. अगर आपका कोई सवाल है तो आप कमेंट् करके पूछ सकते है.

Hello friends, I am "Rahul" Author & Founder of TechySeizer.in. If I Talking about my education I am in BSC 3rd year. I love knowing things related to technology and teaching others. Just keep supporting our content, we will keep giving you new information :)

Sharing Is Love:

3 thoughts on “Encryption क्या होता है ? और कैसे काम करता है।”

  1. ऐसा mechanism hota he pata hi nhi tha .Thanks buddy

Comments are closed.