MRF Full Form In Hindi | MRF ka full form kya hai?

दोस्तों अगर आज हम ट्रक या बाइक या फिर कार के टायर के बात करते हैं तो सबसे पहले मुंह
पर MRF टायर का ही नाम आता है लेकिन क्या आपको पता हैं की MRF Full Form
In Hindi | MRF ka full form kya hai?

MRF Full Form In Hindi | MRF ka full form kya hai? इसके बार में आपको इस
पोस्ट के माध्यम से जानने को मिलेगा, MRF टायर के बारे में तो सभी जानते हैं लेकिन MRF का फुल
फॉर्म यह बहुत कम लोग जानते हैं।

दोस्तों MRF टायर भारत का नंबर 1 और दुनिया में 6th सबसे बड़ी टायर मैन्यूफैक्चर करने वाली
कंपनी हैं जिसके टायर न केवल में वल्कि देश विदेशों में भी बहुत ज्यादा इस्तेमाल किए जाते हैं।

लेकिन आखिर MRF इतने बड़े मुकाम तक कैसे पहुंचा यह जानने के कोई आपको MRF का इतिहास भी जरूर जानना चाहिए क्योंकि कोई भी इतनी बड़ी कंपनी रातों रातों बिल्कुल नहीं बनती है उसके पीछे कई लोगो की कड़ी मेहनत होती हैं जो किसी कंपनी को उस मुकाम तक ले जाती हैं।

MRF Full Form In Hindi | MRF ka full form kya hai? यह पोस्ट पढ़ते हुए आपको गर्व महसूस होना चाहिए की भारत की ऐसी कंपनी को पूरी दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बना चुकी है इसकी आज हमने यह आर्टिकल लिखा।

MRF Full Form In Hindi

एमआरएफ का फुल फॉर्म “Madras Rubber Factory” (मद्रास रबर फैक्ट्री) होता हैं। MRF एक इंडियन मल्टीनेशनल कंपनी हैं जो टायर के लिए भारत की सबसे बड़ी मैन्यूफैक्चर कंपनी हैं।

MRF का हैडक्वाटर तमिल नाडु के चेन्नई में स्तिथ हैं, यह कम्पनी रबर प्रोडक्ट जैसे टायर, ट्रीड्स, ट्यूब, कन्वेयर बेल्ट, और टॉयज आदि बनाने का काम करती हैं।

एमआरएफ एक फाउंडेशन भी रन करती हैं जिसका नाम “MRF Pace Foundation” हैं जो चेन्नई में स्तिथ हैं।

MRF के प्रोडक्ट?

इस MRF Full Form In Hindi | MRF ka full form kya hai? के बाद अब यह जानना दिलचस्प होगा की आखिर MRF कौन कौन से व्हीकल के लिए टायर बनाती हैं।

MRF बहुत सारे टायर बनाती हैं जैसे कार, two-wheelers, truck, buses, tractors, light commercial vehicles, off the road types, aeroplane tyre आदि।

MRF Full Form In Hindi

इसमें MRF ZVTS और MRF wanderers जो कार और SUV के लिए टायर बनाती है, MRF
steel muscle जो ट्रक और बस के लिए टायर बनाती हैं।

MRF ZLX जो MRF ग्रुप में सबसे बड़ा हैं वह पैसेंजर सेगमेंट के लिए काम करता हैं जो कंफर्ट के
लिए ज्यादा जाना जाता हैं।

इनके यहां पेंट का अलग सेक्शन हैं जो ऑटोमोटिव, डेकोरेटिव और औधौगिक प्रयोगों में इस्तेमाल किए
जाने वाला पॉलीयूरेथेन पेंट फॉर्मुलेशन और coat बनाती हैं।

MRF कंपनी की उपलब्धियां?

इस कंपनी को कई सारे ऐसे अवार्ड से नवाजा गया हैं जिससे आज इस कंपनी का गौरव और प्रतिष्ठा दूसरी कंपनी के मुकाबले बहुत आगे पहुंच गया हैं।

1. TNS 2006 global CSR study ने MRF टायर को “Most Trusted Tyre Company in India से awarded किया हैं।

2. कस्टमर सेटिस्फेक्शन के लिए इस कंपनी को कई बार “JD Power Asia Pacific Award” से नवाजा गया हैं।

3. MRF को “CAPEXIL” अवार्ड से भी नवाजा गया हैं जो बेस्ट एक्सपोर्ट परफॉर्मेंस के लिए मिलता हैं।

4. साल 2013 में MRF को JD Power award से दसवीं बार नवाजा गया था।

MRF का इतिहास?

MRF टायर का इतिहास भी बहुत रौचक हैं जिसे आपको आज इस बेहतरीन पोस्ट में जरूर पढ़ना चाहिए।

इतिहास

1946 – K. M Mammen Mappallai जो यंग एंटरप्रेन्योर उन्होंने चेन्नई में अपने घर के पास shed में balloon Manufacturing शॉप ओपन की।

1949 – हालांकि यह कारखाना बिना किसी यह कारखाना बिना किसी मशीन के एक छोटा सा शेड था जिसमें गुब्बारे और लेटेस्ट कास्ट स्पीकिंग खिलौनों से लेकर औद्योगिक दस्ताने आदि तैयार किए जाते थे।

इसी साल ही MRF ने पहला ऑफिस 334, thambu Chetty Stree, Madras, Tamil Nadu में बनाया।

1952 – एमआरएफ ने ट्रेड रबर के निर्माण में कदम रखा। और इसके साथ ही कारखाने में पहली मशीन, एक रबर मिल स्थापित की गई।

ट्रेड-रबर निर्माण में यह कदम बाद में एमआरएफ को एक ऐसी लीग में ले जाने के लिए था जिसकी कुछ लोगों ने कल्पना की थी।

1956 – निर्मित उत्पाद की गुणवत्ता इतने उच्च स्तर की थी कि 1956 के करीब तक, एमआरएफ भारत में ट्रेड-रबर बाजार के 50% हिस्से के साथ बाजार का नेता बन गया था।

बाजार पर एमआरएफ की पकड़ इतनी प्रभावी थी कि बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के पास भारत में ट्रेडेड रबर कारोबार से धीरे-धीरे हटने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था।

1961 – ट्रेड रबर में मिली सफलता के साथ, एमआरएफ ने टायरों के निर्माण में प्रवेश किया।
MRF ने यूएसए की मैन्सफील्ड टायर एंड रबर कंपनी के साथ एक तकनीकी सहयोग स्थापित किया। लगभग उसी समय, यह एक सार्वजनिक
कंपनी भी बन गई।

1961 – इसने तिरुवोट्टियूर, मद्रास (अब चेन्नई) में टायर निर्माण के लिए एक पायलट प्लांट स्थापित
किया। मद्रास के दिवंगत मुख्यमंत्री के कामराज ने टायर प्लांट से पहला टायर जारी किया।

1963 – 12 जून, 1963 को, भारत के पहले प्रधान मंत्री, स्वर्गीय पंडित जवाहरलाल नेहरू ने
तिरुवोट्टियूर में तिरुवोट्टियूर कारखाने के उद्घाटन के उपलक्ष्य में रबर अनुसंधान केंद्र की आधारशिला रखी।

इतिहास

1. 1964 – 1964 में मुख्य संयंत्र के चालू होने के साथ, एमआरएफ ने टायरों के निर्यात में भी प्रगति की। निर्यात बाजार को विकसित करने के लिए बेरूत (लेबनान) में एक विदेशी कार्यालय स्थापित किया गया था,

और यह टायर निर्यात पर भारत के पहले प्रयासों में से एक था। इस वर्ष अब प्रसिद्ध एमआरएफ मसलमैन का जन्म भी हुआ।

2. 1967 – MRF अमेरिका को टायर निर्यात करने वाली पहली भारतीय कंपनी बनी – टायर प्रौद्योगिकी का जन्मस्थान।

3. 1970 – एमआरएफ ने अपनी कोट्टायम इकाई का उद्घाटन किया।

4. 1971 – MRF ने गोवा में अपना कारखाना खोला।

5. 1972 – एमआरएफ के अरक्कोनम संयंत्र का उद्घाटन किया गया।

6. 1979 – कारोबार 1 अरब रुपये को पार कर गया।

7. 1980 – एमआरएफ ने यूएसए की बी एफ गुडरिक टायर कंपनी के साथ एक तकनीकी सहयोग में प्रवेश किया, जो नासा के अंतरिक्ष-शटल के लिए टायरों के विकास में शामिल था।

इसके साथ गुणवत्ता सुधार और नए उत्पाद विकास में एक महत्वपूर्ण अभ्यास शुरू हुआ।

8. 1984 – बिक्री 2 अरब रुपये को पार कर गई।

9. 1984 – मारुति सुजुकी 800 – भारत की पहली छोटी, आधुनिक कार में फिट होने के लिए चुने गए पहले टायर एमआरएफ टायर थे।

10. 1985 – दोपहिया वाहनों के लिए एमआरएफ नाइलोग्रिप टायर लॉन्च किए गए।

इतिहास

1986 – एमआरएफ को राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन संस्थान द्वारा अपने सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए चुना गया था।

दुनिया भर में 20 टायर कंपनियों के खिलाफ खड़े, एमआरएफ ने यूएसए से बी एफ गुडरिच टायर कंपनी द्वारा स्थापित 6 गुणवत्ता सुधार पुरस्कार भी जीते।

1987 – एमआरएफ ने 3 अरब रुपये का आंकड़ा पार किया और भारत में नंबर 1 टायर कंपनी भी बन गई। एमआरएफ लीजेंड, प्रीमियम नायलॉन कार टायर पेश किया गया था।

1988 – एमआरएफ पेस फाउंडेशन की स्थापना अंतरराष्ट्रीय तेज गेंदबाज डेनिस लिली के साथ इसके निदेशक के रूप में की गई थी।

इसके कुछ ही समय बाद, फाउंडेशन में प्रशिक्षित तेज गेंदबाजों को भारतीय क्रिकेट टीम के लिए चुना गया।

1989 – एमआरएफ हर टायर सेगमेंट में स्पष्ट मार्केट लीडर था। एक बार फिर, उत्कृष्टता की
मान्यता में, एमआरएफ को दक्षिण भारत में सर्वश्रेष्ठ बिजनेस हाउस के लिए विश्वेश्वरैया पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

1989 – एमआरएफ ने दुनिया की सबसे बड़ी खिलौना निर्माता कंपनी हैस्ब्रो इंटरनेशनल यूएसए
के साथ सहयोग किया और फनस्कूल इंडिया को लॉन्च किया।

कंपनी ने पॉलीयूरेथेन पेंट फॉर्मूलेशन के निर्माण के लिए वेपोक्योर, ऑस्ट्रेलिया के साथ और मसलफ्लेक्स कन्वेयर और एलेवेटर बेल्टिंग के लिए पिरेली के साथ भी सहयोग किया।

1989 – एमआरएफ ने चेन्नई में एमआरएफ टायरड्रोम, भारत की पहली टायर कंपनी-स्वामित्व वाली व्हील केयर कॉम्प्लेक्स भी खोला।

1993 – के एम मम्मन मप्पिल्लई को उद्योग में उनके योगदान के लिए राष्ट्रीय मान्यता के पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया – उस समय तक यह सम्मान पाने वाले दक्षिण भारत के एकमात्र उद्योगपति थे।

1993 – एमआरएफ 10 अरब रुपये का आंकड़ा पार करने वाली भारत की पहली टायर कंपनी बनी।

इतिहास

1993 – 1993 और 1995 में, कंपनी को सुदूर पूर्वी आर्थिक समीक्षा द्वारा भारत के दस प्रमुख कॉर्पोरेट समूहों में से एक और एशिया में एक नेता के रूप में वोट दिया गया था।

उसी समय के दौरान ए एंड एम पत्रिका के पाठकों द्वारा एमआरएफ को भारत की सबसे प्रशंसित विपणन कंपनियों में से एक के रूप में चुना गया था।

1995 – कंपनी का कारोबार 15 अरब रुपये को पार कर गया। एमआरएफ को देवू सिएलो पर फिट करने के लिए चुना गया था।

1996 – पांडिचेरी में पूरी तरह से रेडियल के निर्माण के लिए समर्पित एक विशेष कारखाना शुरू किया गया था।

1996 – फोर्ड एस्कॉर्ट, ओपल एस्ट्रा और फिएट ऊनो पर फिट होने के लिए एमआरएफ टायर्स को भी चुना
गया, जो इसकी बेहतर गुणवत्ता का और सबूत है।

1997 – MRF ने अपनी पहली F3 कार लॉन्च की।

1998 – एमआरएफ ने ट्रकों के लिए अपना सुपर लग टायर लॉन्च किया।

2000 – MRF ने भारतीय सड़कों पर स्माइल अभियान शुरू किया और यात्री कारों के लिए जेडवीटीएस टायर भी लॉन्च किया।

2001 – एमआरएफ रैली टीम ने एपीआरसी रैली जीती।

2002 – दोपहिया वाहनों के लिए एमआरएफ नाइलोग्रिप जैपर लॉन्च किया गया।

2002 – MRF ने जेडी पावर पुरस्कार जीता।

2003 – एमआरएफ ने अपनी दूसरी एपीआरसी जीत दर्ज की।

2004 – MRF का कारोबार 30 अरब रुपये का आंकड़ा पार कर गया।

2005 – एमआरएफ ने अपनी तीसरी एपीआरसी रैली जीती।

2006 – एमआरएफ का कारोबार ५००० करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर गया।

2007 – ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने एमआरएफ पेस फाउंडेशन का दौरा किया।

इतिहास

2007 – एमआरएफ ने सुपर लग 505 लॉन्च किया – एक प्रीमियम माइलेज, रेटेड सड़कों पर राष्ट्रीय राजमार्ग संचालन के लिए रियर फिटमेंट ट्रक टायर और सुपर लग एफएस भी लॉन्च किया,

जो कई उपयोगकर्ताओं का दावा है कि उन्होंने उन्हें ईंधन बचत प्रदान की है।

2009 – टायर निर्माण प्रमुख एमआरएफ ने ‘वांडरर’ ब्रांड के तहत टायरों की एक नई श्रृंखला शुरू की।

निष्कर्ष

दोस्तों इस पोस्ट में मैने आपको बताया की MRF Full Form In Hindi | MRF ka full form kya hai? मुझे उम्मीद है आज के लेख से आपको जरूर कुछ नया सीखने को मिला होगा।

MRF आज एक दुनिया की सबसे बड़ी टायर कंपनी बन चुकी हैं जिसका कारोबार देश विदेशों में भी बड़े पैमाने पर किया जाता हैं।

MRF Full Form In Hindi | MRF ka full form kya hai? आज की इस पोस्ट में इतना ही मुझे उम्मीद हैं आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी।

Hello friends, I am "Rahul" Author & Founder of TechySeizer.in. If I Talking about my education I am in BSC 3rd year. I love knowing things related to technology and teaching others. Just keep supporting our content, we will keep giving you new information :)

Sharing Is Love:

1 thought on “MRF Full Form In Hindi | MRF ka full form kya hai?”

Leave a Comment