PM मोदी बुधवार को पंजाब के फिरोजपुर में एक रैली को संबोधित करने जा रहे थे, लेकिन सुरक्षा में बड़ी चूक के चलते PM को अपनी रैली स्थगित करनी पड़ी।

ग्रह मंत्रालय के अनुसार पंजाब के हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक के करीबन 30 KM दूर PM का काफिला पहुंचा तो यह सूचना मिली की प्रदर्शनकारियों ने सड़क को घेर रखा था। 

PM मोदी आगे नहीं बढ़ पाए और वही फ्लाईओवर पर 15-20 मिनट तक फंसे रहे, यह PM सुरक्षा की सबसे बड़ी चूक हैं क्योंकि मोदी के आने का कार्यक्रम तय था।

बावजूद इसके पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को वहां से हटाने के बजाय उनके साथ चाय पीने लगे, ग्रह मंत्रालय ने बताया की इसकी बहुत बड़ी शाजिश पाकिस्तान में बैठे कुछ लोग कर रहे थे।

केंद्र का कहना हैं की पंजाब सरकार को मोदी के कार्यक्रम की जानकारी थी, इसके बाद भी प्रदेश सरकार ने सुरक्षा की कोई तैयारी नहीं की गई।

फ्लाईओवर पर 20 मिनट रुकने के बाद PM वहा से वापस बठिंडा हवाई अड्डे जाने का फैसला किया, PM के सामने प्रदर्शनकारी थे जो PM को नुकसान भी पहुंचा सकते थे इसलिए ये बड़ी सुरक्षा चूक हैं।

पीएम के काफिले में दिल्ली पुलिस सिक्योरिटी स्टाफ को गाड़ी सायरन बजाती हुई चलती हैं।

इसके बाद SPG की गाड़ी और फिर 2 और गाडियां चलती हैं। बाईं और दाईं तरफ दो गाड़ियां चलती हैं जो पीएम को सुरक्षा मुहैया करती हैं।

सार्वजनिक कार्यक्रम में SPG कमांडों पीएम के चारों तरफ रहते हैं और उनके साथ साथ चलते हैं।

सुरक्षा के लिए SPG कमांडों

किसी भी कमांडो को पीएम की सुरक्षा में तैनात करने से पहले उसके बारे में बारीकी से जांच होती हैं।

PM के निजी सुरक्षा गार्ड सुरक्षा घेरे की दूसरी पंक्ति में तैनात रहते हैं यह भी SPG के बराबर प्रशिक्षित और दक्ष होते हैं।

तीसरे सुरक्षा चक्र में नेशनल सुरक्षा गार्ड NSG होते हैं जो किसी भी अनहोनी को रोकने के लिए सक्षम होते हैं।

चौथे चक्र में अर्धसुरक्षा बल के जवान और विभिन्न राज्यों के पुलिस अधिकारी होते हैं, जब PM किसी राज्य में जाते हैं तो उस प्रदेश के पुलिस की जिम्मेदारी होती हैं पीएम की सुरक्षा की।

पांचवे चक्र में कमांडो और पुलिस कवर के साथ कुछ अत्याधुनिक तकनीकी सुविधाओं से लैस वाहन और एयरेक्राफ्ट होते हैं।

यही पीएम के काफिले पर जमीनी या हवाई हमला होता हैं तो 2 डमी कार के जरिए आसानी से निपटा जा सकता हैं।

PM के काफिले में चलती हैं 2 डमी कार

यह किसी भी तरह के रासायनिक या जैविक हमले का जवाब देने में सक्षम होते हैं। PM मोदी बुलेटप्रूफ BMW 7 कार से सफर करते हैं।

PM के काफिले में एक जैमर से लैस गाड़ी होती हैं जिसमे दो एंटीना लगे होते हैं, यह सड़क के दोनों तरफ 100 मीटर की दूरी में रखे विस्फोट को निष्क्रिय करने में सक्षम होते हैं।

पीएम के साथ हमेशा एक एंबुलेंस होती हैं जो उन्हें आपात स्थिति में मेडिकल सुविधा मुहैया करवाने में सक्षम होती हैं।