कोलकाता में एक कार्यक्रम में बीमार होने के बाद गायक केके का मंगलवार की रात में निधन हो गया।

अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि कोलकाता में एक कार्यक्रम में प्रस्तुति देने के दौरान केके बीमार पड़ गए

और उन्हें सीएमआरआई अस्पताल ले जाया गया, वहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

बताया जाता है कि केके कोलकाता के नजरूल मंच पर गुरुदास कॉलेज के फेस्टिवल में प्रस्तुति दे रहे थे इसी दौरान उनकी तबियत बिगड़ गई।

यह भी जानकारी सामने आई है कि केके दो दिरन के कंसर्ट के लिए कोलकाता आए थे।

सोमवार को भी उनका कंसर्ट हुआ था. उन्होंने इस दौरान विवेकानंद कॉलेज में कार्यक्रम किया था।

किन मंगलवार को दूसरे कंसर्ट के बाद उनकी तबीयत बिगड़ गई थी और अचानक वह अपने फैंस को अकेला छोड़कर चले गए।

केके ने सिर्फ हिंदी ही नहीं बल्कि तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम, मराठी,

बंगाली और गुजराती फिल्मों के लिए भी गाने गाए हैं। केके ने अपनी स्कूली पढ़ाई दिल्ली के माउंट सेंट मेरी स्कूल से की है

और ग्रेजुएशन किरोड़ीमल कालेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी से किया था।

फिल्मों में ब्रेक मिलने से पहले ही केके ने करीब 35000 जींगल्स गाए थे।

बता दें कि केके दो दिन के कान्सर्ट के लिए कलकाता आए हुए थे।

उन्होंने सोमवार को विवेकानंद कालेज में कान्सर्ट किया था।

पीएम मोदी ने कहा, ‘केके के नाम से प्रसिद्ध गायक कृष्णकुमार कुन्नाथ के असामयिक निधन से दुखी हूं।

उनके गीतों ने भावनाओं की एक विस्तृत श्रृंखला को दर्शाया है।

उनके गाने सभी आयु वर्ग के लोगों के साथ जुड़े हुए हैं, हम उन्हें उनके गानों के जरिए हमेशा याद रखेंगे.’

पीएम मोदी ने केके के परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

यहां तक कि 1999 में क्रिकेट वर्ल्ड कप के दौरान भारतीय टीम को सपोर्ट करने के लिए भी उन्होंने ‘जोश आफ इंडिया’ गाना गाया था।

उनके इस गाने में कई भारतीय क्रिकेटर भी नजर आए थे। इसके बाद केके ने म्यूजिक एलबम ‘पल’ से

बतौर गायक अपने करियर की शुरुआत की थी।  उनके गाए गाने श्रोताओं को बहुत ही पसंद आते हैं।